गँगाजमुनी मुशायरा का हुआ आयोजन 

हाथरस 16 फरवरी | आज आगरा रोड स्थित श्री राधा कृष्ण कृपा भवन के सभागार में प्रमुख साहित्य एवं समाज सेवी  अमृत सिंह पौनिया के...

अवशेष कुमार ‘विमल’ की कलम से – “मैं भी नफरत सीख रहा हूँ”

मैं भी नफरत सीख रहा हूँ। एक नई खुशखबरी ये भी मैं भी नफरत सीख रहा हूँ। औरों से क्या लेना देना खुद ही खुद को जीत रहा...

अवशेष मानवतावादी की कलम से नए साल पर विशेष गीत

ओ नई साल तू एक नया युग लेकर आना। इस भूमण्डल को खास नया कुछ देकर जाना।। सदियों से चली आ रही गलत प्रथाएँ। जग को अभिशापित...

शिव कुमार ‘दीपक’ द्वारा रचित ‘शरद के दोहे’

की अगुवानी महल ने, हुआ हास परिहास । लगे छलकने शिशिर में,मदिरा भरे गिलास ।।-1 देव दिवाकर धूप की, भेजें चादर आप । होरी करता रात भर,धूप-धूप...

सुरजीत मान जलईया सिंह की कलम से – देखिए कहर-कहर

रोकिए पहर-पहर जल रहा शहर-शहर। घिर रही घटा-घटा देखिए कहर-कहर। मन्दिरों के गर्भ में आरती भी मर गयी। मौन आयतें हुईं फिर कुरान डर गयी। देखिए कि देखिए चीखती अज़ान है। लाश बेकसूर...

नितान्शी अग्रवाल की नई रचना – ‘बस तुझे सोचती हूँ’

तेरे चेहरे के नूर से, तेरे दिल की दूरी तक। तेरे पास होने से, तेरे रूठ जाने तक। बस तुझे सोचती हूँ।। वो बारिश की बूंद से, सूरज की किरण...

अवशेष मानवतावादी का गीत – फिर भी ईश्वर के होने का होता है अहसास

ना तो कोई भी सबूत है ना गवाह है पास। फिर ईश्वर भी के होने का होता है अहसास।। तोड़ तोड़कर कण को हमने कण कण में तोड़ा। फिर...

नगला भूड में भाईचारा सेवा समिति के तत्वावधान में हुआ कवि सम्मेलन का आयोजन

सिकंदराराऊ 04 अगस्त |  भाईचारा सेवा समिति के तत्वावधान में लालाराम महाविद्यालय नगला भूड में एक कवि सम्मेलन का आयोजन किया गया। जिसकी अध्यक्षता वरिष्ठ...

शिव कुमार ‘दीपक’ की बाल रचना

झूला लेकर आया सावन । हरियाली ले वर्षा आयी । बच्चों ने ली मन अंगड़ाई ।। दादुर पपिहा नाचे मोर । काली कोयल करे कनकोर ।। धानी चूँदर...

अकबर सिंह अकेला की एक कविता –

वर्षा झमझम हो रही, मौसम भी परवान। हवा निराली चल रही, पंछी गाउत गान।। दिन में अँधियारी झुकी, बिल्कुल रात समान। लुका छिपी बदरा करें, सूरज अंतर ध्यान।। सांय काल में लग...

Hathras Wather

hathras
scattered clouds
37 ° C
37 °
37 °
12%
4.8kmh
36%
Sat
38 °
Sun
39 °
Mon
41 °
Tue
41 °
Wed
41 °

Latest news