देहरादून 19 जनवरी | हमारे भारत देश में ऐसी बहुत सी गुफाएं हैं जो हमेशा से ही लोगों की जिज्ञासा का केंद्र रहीं हैं, वैसे तो आज तक आपने कई गुफाओं बारे में सुना होगा, पर आज हम आपको एक ऐसी रहस्य्मयी गुफा के बारे में बताने जा रहे हैं जो उत्तराखंड, कुमाऊं मंडल के गंगोलीहाट कस्बे में मौजूद है| यहाँ के स्थानीय लोगो का मानना है की इस गुफा में दुनिया के खत्म होने का राज छुपा है. आज हम आपको इसी गुफा से जुडी कुछ और दिलचस्प बातों के बारे में बताने जा रहे हैं|

इस गुफा का नाम पाताल भुवनेश्वर हैं, ऐसा माना जाता है की इस गुफा में शिवजी रहते हैं, और सारे भगवान इसी गुफा में आकर शिव जी की पूजा करते थे |जब आप गुफा के अंदर जायेगे तो आपको इसका कारण भी समझ में आ जाएगा|
इस गुफा में अंदर जाने का रास्ता बहुत पतला और संकरा है कि इसके अंदर प्रवेश करने में बहुत दिक्कतों का सामना करना पड़ता है| जैसे ही आप इस गुफा के अंदर प्रवेश करेगें तो आपको दीवारों पर एक हंस का चित्र दिखाई देगी| ऐसा माना जाता है की ये ब्रह्मा जी का हंस है| इस गुफा में जाकर आप एक साथ केदारनाथ, बद्रीनाथ, अमरनाथ के दर्शन कर सकते है| इसके अलावा इस गुफा के अंदर 33 करोड देवी देवताओं की आकृति मौजूद है और साथ ही यहाँ शेषनाग का फन नजर आता है.
यहाँ चार खम्भे बने हुए है जो चारो युगो का प्रतीक माने जाते हैं| इस गुफा को देखने के लिए बहुत सारे टूरिस्ट आते है | जब आप इस गुफा के अंदर जायेंगे तो आपको ठंडे पानी के बीच में से होकर गुजरना पड़ेगा. आप इस गुफा को कुदरत के द्वारा बनाया गया एक करिश्मा मान सकते हैं|