बुलंदशहर 10 फरवरी | 2 साल पहले मेट्रो में मुलाकात हुई थी। मंडी हाउस से वह आनंद विहार जा रहा था। कुछ देर के लिए मिले तो पता नहीं था, यह मुलाकात 7 फेरों में बंधने वाली है। मेट्रो से बाहर निकले तो दोनों एक-दूसरे से नंबर शेयर किए बगैर कदम नहीं बढ़ा सके। बातचीत का दौर शुरू हुआ। दोनों के घरवाले इस मोहब्बत से खफा थे। अपनों के विरोध को दरकिनार कर उन्होंने कड़कड़डूमा कोर्ट में शादी कर ली। मेहंदी का रंग फीका पड़ता, उससे पहले ही इश्क का जुनून खत्म होने लगा। फिर वक्त ऐसा आया कि सात जन्मों तक साथ निभाने का वादा करने वाला ही उसकी हत्या में जेल पहुंच गया। बिटौरे (उपलों का ढेर) पर पेट्रोल छिड़ककर महिला को जलाया गया था।
औरंगाबाद थाना एरिया के बरारी गांव का अमित फरीदाबाद की एक कंपनी में इंजिनियर है। उसने साल 2018 में हापुड़ निवासी वंदना से लव मैरिज की थी। दोनों के परिवारवाले इस शादी के लिए राजी नहीं थे। शादी के कुछ समय बाद घरवाले राजी हुए तो वंदना का बरारी गांव में आना जाना शुरू हुआ। पति अमित के साथ ही फरीदाबाद में वंदना रहती थीं। पिछले साल दिसंबर में अमित ने पुलिस को बताया कि वह गांव गया तो उसकी पत्नी लापता हो गई। पुलिस ने वह कार ढूंढी, जिससे अमित ने घर जाने की बात कही थी। कार के जीपीएस रिकॉर्ड की मदद से एक बिटौरे तक पुलिस पहुंची। वहां हड्डियां मिलीं, फिर अमित से पुलिस ने सख्ती की। इसके बाद अमित ने अपने दोस्त विकास के साथ हत्या की बात कबूल कर ली। विकास बल्लभगढ़ के आदर्श नगर में रहता है। एसएसपी संतोष सिंह ने बताया कि कार में हत्या कर ड्राइवर को दौरे पड़ने की बात अमित ने बोली थी। फिर विकास के साथ बिटौरे में ले जाकर पत्नी का शव जला दिया था। स्वाट टीम प्रभारी सुधीर त्यागी ने घटना की जांच की थी।

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here