सिकंदराराऊ (हसायन) 11 जून । वैश्विक महामारी के दौरान वित्त विहीन स्कूल कालेजों के बंद होने से स्कूल कालेजों में तैनात शिक्षक शिक्षिकाओं व कर्मचारियों के सामने आर्थिक संकट होने के कारण शिक्षक शिक्षिकाओं व कर्मचारियों को काफी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। इसी परेशानी को लेकर वित्त विहीन शिक्षक महासभा के जिलाध्यक्ष आरपी शर्मा ने शासन से वित्त विहीन शिक्षक शिक्षिकाओं व कर्मचारियों को सहायता प्रदान किए जाने की कई बार मांग की गई थी। मगर सरकार के द्वारा वित्त विहीन शिक्षक शिक्षिकाओं व कर्मचारियों की सहायता के लिए कोई भी घोषणा नहीं किए जाने से शिक्षकों में काफी आक्रोश है। वित्त विहीन शिक्षक महासभा के जिलाध्यक्ष आरपी शर्मा के द्वारा फिर से सरकार से मांग करते हुए सहायता किए जाने की सिफारिश करते हुए पुरस्कार व सम्मान लौटाए जाने की घोषणा की है। वित्त विहीन शिक्षक महासभा के जिलाध्यक्ष आरपी शर्मा ने श्री हनुमान इंटर कॉलेज में बैठक करते हुए कहा कि वर्तमान समय में वैश्विक महामारी कोरोना वायरस संक्रमण के कारण जनमानस के साथ शिक्षा का लौ जलाने वाले शिक्षकों के जीविकोपार्जन के लिए अंधेरा छाया हुआ है। उन्होंने कहा कि सरकार के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के द्वारा हर वर्ग की मदद के लिए सरकारी खजाना खोल दिया है। मगर आज तक शासन के द्वारा वित्त विहीन शिक्षक शिक्षिकाओं व कर्मचारियों की सहायता के लिए कुछ भी नहीं दिया है। उन्होंने कहा कि वर्तमान में वैश्विक महामारी कोरोना संक्रमण के कारण स्कूल कालेजों के बंद होने से सूखी रोटी खाने के लिए मजबूर हो गए हैं। उन्होंने सरकार से मांग करते हुए शिक्षक शिक्षिकाओं व कर्मचारियों के हित में घोषणा किए जाने की मांग करते हुए कहा कि सरकार के द्वारा जीविकोपार्जन के लिए कोई घोषणा नहीं की गई। तो वह सरकार के द्वारा पूर्व में दिए गए पुरस्कार व सम्मान को वित्त विहीन शिक्षक शिक्षिकाओं व कर्मचारियों की खातिर वापिस करने के लिए मजबूर हो जाएंगे।

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here