नई दिल्ली 24 अप्रैल | बीते 24 घंटों में देश में कोरोना के नए मरीजों का आंकड़ा साढ़े तीन लाख के करीब पहुंच गया है। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के आंकड़ों के मुताबिक, इस दौरान देशभर में 3,46,786 कोरोना मरीज सामने आए हैं वहीं 2,624 लोगों की जान गई है। अच्छी बात यह भी है कि इस दौरान 2,19,838 मरीज डिस्चार्ज होकर घर लौटे हैं यानी रिकवरी रेट बढ़ा है। यह अच्छी बात है। इस तरह देश में अब तक कोरोना के कुल मरीजों का आंकड़ा 1,66,10,481 पहुंच गया है। ठीक होने वाले मरीजों का आंकड़ा 1,38,67,997 है जबकि महामारी से जिंदगी की जंग हारने वालों की संख्या 1,89,544 है। अभी देश में 25,52,940 एक्टिव केस हैं यानी इतने मरीज अस्पताल में भर्ती हैं या क्वारंटाइन है ।

इस बीच, डब्ल्यूएओ यानी विश्व स्वास्थ्य संगठन ने भी भारत के हालात पर चिंता जताई है। विश्व स्वास्थ्य संगठन के प्रमुख टेड्रोस अधोनम घेब्रेयेसस के मुताबिक, भारत में तेजी से बढ़ते मामले चिंता बढ़ाने वाले हैं। भारत में हालात विनाशकारी हैं जो याद दिलाते हैं कि वायरस क्या कर सकता है। आक्सीजन बेड्स और रेमडेसिविर जैसी प्रमुख आपातकालीन दवा की जबर्दस्त कमी के बीच ऐसा लगता है कि देश में हर गुजरते दिन के साथ स्थिति हाथ से निकलती जा रही है ।

माडल बता रहा अगले माह से घटेगा कोरोना

कोरोना महामारी की दूसरी लहर अगले माह के अंत तक कमजोर पड़ जाएगी। उससे पहले सावधान रहने की जरूरत है क्योंकि इस बीच मरीजों की संख्या तेजी से बढ़ेगी। सबसे ज्यादा खतरा 11 से 15 मई के बीच होगा। इस दौरान कोरोना संक्रमण चरम पर होगा। दिल्ली, हरियाणा, राजस्थान और तेलंगाना में 25 से 30 अप्रैल के बीच नए मामलों की संख्या बहुत बढ़ सकती है। आईआईटी कानपुर और हैदराबाद के विज्ञानियों का “ससेप्टिबल, अनडिटेक्टेड, टेस्टेड (पाजिटिव) एंड रिमूव्ड एप्रोच” यानी (सूत्र) माडल बताता है कि कोरोना के मामलों में कमी आने से पहले मई में उपचाराधीन मरीजों की संख्या तेजी से गिरना शुरू हो जाएगी ।