सिकंदराराऊ (हसायन) 23 फरवरी । मनुष्य को भगवान का नाम जपने के लिए मन में लालसा जरूरी रखनी चाहिए ।मनुष्य को भगवान पूजा अर्चना के साथ लालसा होने पर भी फलदायक साबित होते हैं । उक्त बातें गांव बनवारीपुर में स्थापित श्री बाँके बिहारी जी महाराज के उन्नीसवें प्राकट्योत्सव समारोह के दौरान आयोजित श्रीमद भागवत कथा के दौरान प्रवचन करते हुए आचार्य देवकीनंदन ठाकुर ने व्यक्त किए। उन्होंने बृतासुर की कथा का वर्णन करते हुए कहा कि जिस प्रकार बृतासुर ने भगवान की भक्ति करने के लिए मन में लालसा होने की बात कही। ठीक उसी प्रकार से अगर मनुष्य मन में दृढ़ संकल्प व पूर्ण विश्वास के साथ भगवान की पूजा अर्चना भक्ति करे। तो मनुष्य के सभी कार्य बिना किसी बिघ्न बाधा के पूरे हो सकते हैं। आचार्य देवकीनंदन ठाकुर ने भगवान राम जन्म की कथा सुनाते हुए कहा कि पुत्र को संस्कारवान बनाने के लिए पहले स्वंय को आध्यात्मिक ज्ञान करते हुए खुद को धार्मिक पद्धति का बनना पडेगा ।
तब कहीं हमारी देश के कर्णधार माता पिता गुरू व अतिथि का सम्मान करेंगें । उन्होंने भगवान श्री कृष्ण के जन्मदिन की कथा का प्रसंग सुनाते हुए कहा कि जिस घर में बहन बहनोई व अन्य किसी का अनादर होता है । तो ऐसे प्रवृत्ति में रहने वाले लोगों के संहार के लिए प्रभु अवतार लेते हैं । भगवान श्री कृष्ण के जन्मदिन की कथा के दौरान श्रीकृष्ण की झांकी भी दिखाई गई । भगवान श्रीकृष्ण के बाल स्वरूप की झांकी की आयोजक अवधेश जादौन के द्वारा अपने परिजनों के साथ पूजा अर्चना की । कथा पंडाल में भगवान श्रीकृष्ण के जन्मदिन पर बधाई भी दी गई । कथा पंडाल में नंद के आनंद भए जै कन्हैया लाल की, रंगीन गुब्बारों से मंडप सजाया है, मुरली बाले का इक केक मंगाया है, यशोदा जायौ ललना मै बेदन में सुन आई, नंद घर आयौ कन्हाई यशोदा मैया दे दो बधाई से वातावरण भक्तिमय हो गया । कथा के दौरान सांसद राजवीर सिंह दिलेर, यशपाल सिंह चौहान, रामेश्वर उपाध्याय, बृजेश चौहान, युवराज सिंह, तेजवीर सिंह सिसौदिया, रामबेटी जादौन, अवधेश जादौन, अरूण कुमार जादौन, बसंत कुमार जादौन, सुधीर कुमार जादौन,सुशील कुमार जादौन, सुनील कुमार जादौन, भानुप्रताप जादौन, धर्मेंद्र सिंह जादौन मौजूद थे ।

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here