सिकंदराराऊ 23 मई | आयुर्वेदिक तथा यूनानी तिब्बी चिकित्सा पद्धति बोर्ड उत्तर प्रदेश के सदस्य डॉ मोहम्मद जाहिद हुसैन ने क्षेत्रीय आयुर्वेदिक तथा यूनानी अधिकारी अलीगढ़ को पत्र लिखकर जनपद अलीगढ़ व हाथरस के समस्त आईएसएम चिकित्सकों को जिला मुख्यालय पर कोविड 19 के प्रशिक्षण दिलाने की मांग की है। उन्होंने कहा है कि वर्तमान समय में वैश्विक महामारी के संक्रमण से संपूर्ण विश्व त्रस्त हैं। स्थानीय स्तर पर जिला प्रशासन द्वारा इस संक्रमण की रोकथाम के लिए किए जा रहे प्रयास अत्यंत सराहनीय प्रशंसनीय है। लेकिन पूरे संक्रमण काल में क्षेत्रीय आयुर्वेदिक तथा यूनानी अधिकारी की निष्क्रियता देखने को मिल रही है। उनके द्वारा अभी तक किसी भी जनपद में आईएसएम चिकित्सकों के हित में किसी भी प्रकार की कार्रवाई नहीं की गई है। न कोई गाइडलाइन जारी की गई है। इस महामारी के समय में विभिन्न चिकित्सा पद्धतियों के मध्य प्रधानमंत्री के द्वारा आयुष पद्धति पर भरोसा जताया गया है। उस भरोसे को कायम रखने के लिए आई एस एम चिकित्सक महामारी काल में आम जनमानस को राहत प्रदान करने को आतुर हैं। इम्यूनिटी बूस्टर के लिए आयुर्वेदिक व यूनानी काढ़ा लोगों को निःशुल्क दिया जाए। सभी आईएसएम चिकित्सकों को जिला मुख्यालय पर कोविड की ट्रेनिंग  की व्यवस्था की जाए। मुख्य चिकित्सा अधिकारी को आई एसएम चिकित्सकों की सूची यथाशीघ्र भेजी जाए। आयुर्वेद एवं यूनानी पद्धति के लाभों को समाचार पत्रों, होर्डिंग, वॉल पेंटिंग, पोस्टर्स के द्वारा प्रसारित कराया जाए। प्रदेश के अन्य जनपदों में भी आईएसएम चिकित्सकों को आईसीएमआर की गाइडलाइन के अनुसार कोविड 19 की ट्रेनिंग जिला मुख्यालय पर क्षेत्रीय आयुर्वेदिक तथा यूनानी चिकित्सा अधिकारी द्वारा संस्तुति करके दिलाई जा रही है एवं नई गाइडलाइन के अनुसार भी प्रत्येक को अपना चिकित्सा प्रतिष्ठान खोलने हेतु ट्रेनिंग की आवश्यकता है।

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here