चूरू (राजस्थान) करीब 4 महीने पहले चीन के वुहान शहर में फैला कोरोना वायरस अब तक दुनिया के 209 देशों तक पहुंच चुका है। कोरोना वायरस यानी कोविड-19 को लेकर कभी ये कहा जा रहा था कि गर्म देशों में इसका असर कम होगा। लेकिन ऐसा नहीं हुआ, दिसंबर में 2 से 11 डिग्री तापमान वाले चीन का वुहान शहर की तरह -6 डिग्री वाले ग्रीनलैंड से लेकर दुबई या फिर भारत जैसे देशों में भी कोराेना पांव पसारता जा रहा है। हालांकि अब भी लोगों के बीच इस बात की चर्चा है कि तापमान बढ़ने के साथ ही कोरोना वायरस का प्रकोप भी कम हो जाएगा। कुछ तो यहां तक कह रहे हैं कि 40 डिग्री तापमान में कोराेना खत्म हो जाएगा। लेकिन एक्सपर्ट्स ऐसे तमाम दावों को सिरे से नकारते हैं। फिर भी एक बड़ा तबका है जिसे उम्मीद है कि बढ़ते तापमान में कोरोना पर काबू पाने में आसानी होगी। हालांकि, पिछले साल देश में गर्मी का रिकॉर्ड तोड़ने वाले राजस्थान के चूरू में फिलहाल पारा 40 डिग्री के करीब पहुंच चुका है ऐसा कुछ नजर नहीं आ रहा।

तापमान तेजी से बढ़ रहा है लेकिन-
चूरू में भीषण गर्मी के बीच पिघलता पारा सिर चढ़ कर बोलता है। यहां आग उगलते सूरज के बीच तापमान 51 डिग्री के करीब पहुंच जाता है। लू के थपेड़ों और भट्‌टी की तरह तपती सड़कों के बीच यहां गर्मी के लॉक डाउन के बीच लोगों का घरों से निकलना तक मुश्किल हो जाता है। थार का एंट्री गेट कहे जाने वाले चूरू जिले में हर बार गर्मी के नए रिकॉर्ड बनते और टूटते हैं। कोरोना वायरस के संक्रमण के बीच चूरू में तापमान लगातार बढ़ रहा है। सोमवार को यहां 39.5 डिग्री अधिकतम तापमान दर्ज हुआ था। मंंगलवार सुबह की शुरूआत यहां 22.6 डिग्री तापमान के साथ हुई है। दिन में भीषण गर्मी के बावजूद यहां कोरोना पॉजिटिव मरीजों की संख्या अब तक 11 पहुंच चुकी है।

इस बात से राहत कि अभी तक सभी मरीज बाहर से-
तबलीगी जमात के 27 वर्षीय युवक की रिपोर्ट मंगलवार सुबह कोरोना पॉजिटिव आई है। हालांकि इस बात से इनकार नहीं किया जा सकता कि चूरू में स्थानीय संक्रमण अभी न के बराबर है। दरअसल, यहां कुल 11 पॉजिटिव मामलों में से 10 लोग ऐसे हैं जो दिल्ली के निजामुद्दीन जलसे में शामिल होकर चूरू लौटे हैं। जिले का पहला कोरोना पॉजिटिव मामला जिले के भांगीवाद की 50 वर्षीय महिला का 27 मार्च को सामने आया था, यह महिला भी जयपुर के एसएमएस अस्पताल से चूरू पहुंची थी.

क्या कहते हैँ चूरू के डॉक्टर, चिकित्सा अधिकारी?
चूरू में लगातार बढ़ रही गर्मी के बीच आरसीएचओ डॉ. सुनील जांदू का मानना है कि 40 डिग्री गर्मी से कोरोना खत्म हो जायेगा ऐसा कोई प्रमाणिक तथ्य नहीं है। इसी तरह की राय डॉ. अहसान गौरी ने भी जाहिर की है. बकौल डॉ. गोरी 40 डिग्री गर्मी में कोरोना वायरस खत्म हो जायेगा यह भ्रांति पैदा करने वाली बात कही जा सकती है। सउदी अरब में फिलहाल चूरू से ज्यादा तापमान चल रहा है।चूरू में सोमवार को 39.5 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया।

देश का सबसे गर्म शहर का रिकॉर्ड, पारा पहुंचा 51 डिग्री के पास
पिछले वर्ष 1 जून को यहां मौसम विभाग ने अधिकतम तापमान 50.8 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया था। 1 जून 2019 को सूर्य उदय के साथ ही यहां पारा 37 डिग्री के चला गया जो 11 बजे तक 45 डिग्री पार कर गया। दोपहर 2 बजे ही यहां 48.8 डिग्री तापमान दर्ज हुआ जो शाम होते-होते 51 डिग्री के करीब पहुंच गया था।