नई दिल्ली 26 मार्च | केंद्र और राज्य सरकारों की तमाम कोशिशों के बावजूद देश में कोरोना संक्रमण के मामले उस अनुपात में कम होते नहीं दिख रहे हैं। स्वास्थ्य विभाग के संयुक्त सचिव लव अग्रवाल ने आज बताया कि पिछले 24 घंटे में संक्रमण के 42 नए मरीज सामने आए हैं। इसमें संक्रमित चार लोगों की मौत भी हो गई है। इस वक्त देश में कोरोना संक्रमण के कुल 649 मामले हैं। इन सभी संक्रमित लोगों का इलाज प्रोटोकाल के हिसाब से किया जा रहा है। कुल केस में 606 लोग ऐसे हैं जो भारत में ही रह रहे हैं, वहीं 47 केस ऐसे हैं जो विदेश से भारत आए हैं। देश में कोरोना संक्रमण से अब तक कुल 13 लोगों की मौत हो चुकी है। इसके साथ ही अधिकारियों ने मेगास्टार अमिताभ बच्चन के ट्वीट में कही उस बात को गलत बताया कि मक्खियों से भी कोरोना फैलता है।

जिस तेजी से बढ़ा संक्रमण, वह चिंताजनक
लव अग्रवाल ने मीडिया के जरिए देशवासियों से अपील की कि लोग किसी भी सूरत में सामाजिक दूरी के नियम का सख्ती से पालन करें। सरकार के साथ पूरे देश की जिम्मेदारी है कि एकजुट होकर कोरोना को रोकने में अपना सहयोग दें। पिछले 24 घंटे में आए संक्रमण के नए केस पर लव अग्रवाल ने कहा कि जिस गति से संक्रमण बढ़ा है वह चिंताजनक है। लेकिन हम अपेक्षाकृत स्थिरता की ओर बढ़ रहे हैं। हालांकि उन्होंने अपनी बात दोहराते हुए कहा कि अगर हमें इसे शून्य करना है तो हम सब को मिलकर सामाजिक दूरी के नियम का सख्ती से पालन करना होगा।

उदाहरण के तौर पर उन्होंने बताया कि कई जगहों पर सब्जी मार्केट में भी लाइन खींच दी गई है, जिसके दायरे में रहकर ही लोग खरीदारी कर रहे हैं। इससे सामाजिक दूरी का ख्याल रखा जा रहा है। ऐसे ही उपाय हमें अपने जीवन के हर क्षेत्र में अपनाना होगा।

मक्खी से कोरोना फैलने के दावे पर गलत साबित हुए अमिताभस्वास्थ्य मंत्रालय के के अधिकारियों ने मेगास्टार अमिताभ बच्चन के ट्वीट में कही उस बात को गलत बताया कि मक्खियों से भी कोरोना फैलता है। देखिए अमिताभ ने विडियो में क्या कहा था और उस पर स्वास्थ्य मंत्रालय ने क्या जवाब दिया।

देश के 17 राज्यों में हो रहा कोरोना का उपचार
प्रेस कॉन्फ्रेंस में बताया गया कि देश के 17 राज्यों के अस्पतालों में कोविड-19 संक्रमित मरीजों का इलाज किया जा रहा है। अधिकारियों ने यह भी बताया कि देशभर में 25 और प्राइवेट लैब को कोरोना संक्रमण की जांच के लिए अनुमति दी गई है। हालांकि सैंपल कलेक्शन के लिए 20 हजार से ज्यादा सेंटर हैं। देशभर में डॉक्टरों को ट्रेंड करने के लिए एम्स दिल्ली की ओर से ऑनलाइन ट्रेनिंग दी जा रही है। इसके अलावा आशा वर्कर, एएनएम, आंगनबाडी वर्कर को भी संक्रमण रोगों के बारे में ट्रेंड किया जाएगा। उन्होंने देशवासियों को आश्वस्त किया कि इस वक्त हालात कंट्रोल में हैं।

अमिताभ बच्चन के ट्वीट को स्वास्थ्य मंत्रालय ने बताया गलत
अभिनेता अमिताभ बच्चन ने ट्वीट कर कहा है कि मक्खियों से भी कोरोना का संक्रमण फैलता है। इसपर लव अग्रवाल ने कहा कि उन्होंने वह ट्वीट नहीं देखा है, लेकिन इतना जरूर बता सकते हैं कि वायरस संक्रमण के रोग मक्खियों से नहीं फैलते हैं। अमिताभ बच्चन ने अपने विडियो में कहा था कि संक्रमित लोगों के मल में कोरोना वायरस कई दिनों तक जिंदा रहते हैं, जिसपर बैठी मक्खियां अगर घर में आती हैं तो इस वायरस का संक्रमण घर में आ सकता है। इस वीडियो संदेश के जरिए अमिताभ ने सभी से शौचालय प्रयोग करने को कहा है।

ये तीन काम कर आप कोरोना से जीत सकते हैं !बॉलिवुड सेलेब्स अपने-अपने तरह से फैंस को गाइड कर रहे हैं। फैंस को बताने की कोशिश कर रहे हैं कैसे वो कोरोना से बच सकते हैं। कैसे वो कोरोना से जीत सकते हैं। हर एक सेलेब अपने अंदाज में फैंस को समझा रहा है। जी हां, अमिताभ बच्चन ने की कोरोना से लड़ने की बात वहीं अमिताभ बच्चन ने खास सलाह भी दी है। अक्षय कुमार ने लोगों पर जाहिर किया है गुस्सा और साथ में लॉकडाउन का मतलब भी समझाया है। वरुण शर्मा ने की घर से बाहर न जाने की अपील। आईए देखते हैं क्या है सेलेब्स का कहना।

‘हम कोरोना को कंट्रोल कर लेंगे’
भारतीय चिकित्सा अनुसंधान परिषद के सदस्य आर गंगा केतकर ने कहा कि सरकार द्वारा उठाए गए कदम इतने प्रभावी हैं कि यदि हम उनका सख्ती से पालन करें, तो देश में शायद ही कोरोनो वायरस के मामले बढ़ेंगे। उन्होंने मीडिया से अपील की कि वे खबरों की प्रस्तुती में संयम रखें। साथ ही कोई ऐसी खबर ना दें जिससे लोगों में घबराहट बढ़े।

कोरोना मरीजों का इलाज कर रहे डॉक्टरों का जज्बा देखिएराजस्थान में कोरोना वायरस का केंद्र बने भीलवाड़ा जिले के सरकारी अस्पताल के डॉक्टर दिन रात काम में जुटे हुए हैं। उनके जज्बे का अंदाजा इस विडियो से लगाया जा सकता है जिसमें वे गाना गाते हुए नजर आ रहे हैं। सोशल मीडिया पर ये विडियो काफी देखा जा रहा है।

वहीं गृह मंत्रालय की ओर से कहा गया कि लॉकडाउन के दौरान लोगों की जरूरतों को पूरा करने के लिए राज्य सरकारों से संपर्क कर हरसंभव कोशिश की जा रही है। उन्होंने कहा कि जरूरत के सामानों की आपूर्ति में दिक्कत ना हो इसके लिए सभी राज्यों ने हेल्पलाइन नंबर जारी कर दिया है।