नई दिल्ली 04 दिसम्बर | INX मीडिया मामले में सुप्रीम कोर्ट से जमानत मिलने के बाद पूर्व वित्त मंत्री पी चिदंबरम हो गए हैं। समर्थकों की भारी भीड़ के बीच जेल से बाहर आए चिदंबरम ने कहा कि उनके खिलाफ एक भी आरोप तय नहीं किए गए। बता दें कि ईडी द्वारा दर्ज केस में जमानत मिली है, जबकि सीबीआई द्वारा दर्ज केस में पहले ही जमानत मिल चुकी है। कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने पूर्व वित्त मंत्री को बेल मिलने पर कहा था कि वह अपनी बेगुनाही साबित करेंगे।

जेल से निकल यह बोले चिदंबरम-
जेल से बाहर निकलने के बाद पी चिदंबरम ने मीडिया को संबोधित किया और कहा कि 106 दिन तक कैद में रखा गया, जबकि मेरे खिलाफ एक भी आरोप तय नहीं किए गए। मैं इन सभी का जवाब कल दूंगा।’ बता दें कि सुप्रीम कोर्ट ने शर्त रखी थी कि वह इस संबंध में प्रेस को ब्रीफ नहीं करेंगे।

सोनिया गांधी से की मुलाकात-
जेल से रिहा होने के बाद चिदंबरम ने अंतरिम कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी से उनके घर पर मुलाकात की। चिदंबरम के साथ उनके पुत्र कार्ति चिदंबरम भी थे। बाद में पूर्व वित्त मंत्री ने कहा,’मैं कल एक प्रेस कॉन्फ्रेंस करूंगा। मुझे खुशी है कि 106 दिन बाद मैं आजादी की सांस ले पा रहा हूं।’

शर्तों के साथ जमानत-
शीर्ष अदालत ने उन्हें कुछ शर्तों के साथ जमानत दी है जैसे छूटने के बाद गवाहों से संपर्क करने की कोशिश नहीं करेंगे और कोर्ट की इजाजत के बगैर विदेश नहीं जा सकते। इसके अलावा इस केस के बारे में प्रेस ब्रीफिंग नहीं करेंगे। कोर्ट ने चिदंबरम को 2 लाख के निजी मुचलके और बिना अनुमति देश नहीं छोड़ने की शर्त पर जमानत दी है।

सोनिया गांधी से की मुलाकात-
जेल से रिहा होने के बाद चिदंबरम ने अंतरिम कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी से उनके घर पर मुलाकात की। चिदंबरम के साथ उनके पुत्र कार्ति चिदंबरम भी थे। बाद में पूर्व वित्त मंत्री ने कहा,’मैं कल एक प्रेस कॉन्फ्रेंस करूंगा। मुझे खुशी है कि 106 दिन बाद मैं आजादी की सांस ले पा रहा हूं।’

शर्तों के साथ जमानत-
शीर्ष अदालत ने उन्हें कुछ शर्तों के साथ जमानत दी है जैसे छूटने के बाद गवाहों से संपर्क करने की कोशिश नहीं करेंगे और कोर्ट की इजाजत के बगैर विदेश नहीं जा सकते। इसके अलावा इस केस के बारे में प्रेस ब्रीफिंग नहीं करेंगे। कोर्ट ने चिदंबरम को 2 लाख के निजी मुचलके और बिना अनुमति देश नहीं छोड़ने की शर्त पर जमानत दी है।

106 दिन बाद हुई रिहाई-
चिदंबरम 106 दिन के बाद रिहा हुए हैं। चिदंबरम को 21 अगस्त को सीबीआई ने अरेस्ट किया था और फिर 16 अक्टूबर ने इसी मामले में ईडी ने अरेस्ट किया था। ईडी द्वारा दर्ज केस में उन्हें हाई कोर्ट ने यह कहते हुए जमानत देने से इनकार कर दिया था। जज ने कहा था कि पहली नजर में मामला गंभीर है और अपराध में उनकी सक्रिय भूमिका भी लग रही है। जस्टिस सुरेश ने कहा कि अगर जमानत दी गई तो इससे समाज में गलत संदेश जाएगा।

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here