हाथरस 24 नवंबर | दून पब्लिक स्कूल, हाथरस के विद्यार्थियों ने कल 23 नवंबर को अमेरिका एवं साउथ कोरिया जैसे देशों के साथ लाइव क्लासेस में अंतरराष्ट्रीय स्तर पर अपनी-अपनी संस्कृतियों के विनिमय कार्यक्रम “आइविका-285” में भाग लिया, जिसका विषय था- वैश्वीकरण के दुष्प्रभाव एवं उपाय। आईविका-285 के अंतर्गत तीनों देशों के विद्यार्थियों ने इस विषय पर सामूहिक रूप से चर्चा की और इसके बाद एक प्रश्नावली के जरिए, इस विषय को और बेहतर ढंग से समझा। इस कार्यक्रम के अंतर्गत जो सांस्कृतिक प्रदर्शन तीनों देशों के विद्यार्थियों ने किया, उनमें अमेरिका एवं साउथ कोरिया के विद्यार्थियों ने गाना गाकर अपनी कला की प्रतिभा को प्रदर्शित किया। वहीं भारत की ओर से दून पब्लिक स्कूल, हाथरस के विद्यार्थियों ने दो अलग-अलग समूहों में नृत्य कला के माध्यम से अपनी अनोखी प्रतिभा को प्रदर्शित किया। इस कार्यक्रम में भाग लेने वाले देश अमेरिका जिसमें क्वींस स्कूल ऑफ इंक्वायरी न्यूयॉर्क और उनकी शिक्षिका श्रीमती डेवोरा रेबोरे थीं। साउथ कोरिया  देश जिसमें डाएगू हाई स्कूल ऑफ इंटरनेशनल स्टडीज स्कूल जिनके साथ उनके शिक्षक श्रीमान जिओंगबू ली उपस्थित थे । भारत की ओर से दून पब्लिक स्कूल एवं उनके शिक्षक सक्षम सक्सेना एवं शुभम गर्ग उपस्थित थे। इस कार्यक्रम में भारत की ओर से जिस टीम ने प्रतिभाग किया, उनके नाम कक्षा 11वीं की दिव्या गोयल, लकी वार्ष्णेय, रिया सिंह, कविता सिसोदिया, ईशा वर्मा, नव्या अग्रवाल, रितिका आर्या, गुंजन, सुहानी बंसल, अर्पिता चौहान, रिद्धिमा अग्रवाल, श्रद्धा चौधरी, ध्रुव चौधरी, छवि अग्रवाल, सुकृति निगम, मोनिका रावत, एवं सजल बंसल थे। इस “आईविका -285” कार्यक्रम की कोऑर्डिनेटर श्रीमती हिंद रहीं। दून पब्लिक स्कूल के प्रधानाचार्य जेके अग्रवाल के नेतृत्व में दून पब्लिक स्कूल के विद्यार्थियों ने अपनी बौद्धिक और  सांस्कृतिक प्रतिभा को अंतरराष्ट्रीय स्तर तक पहुंचाने के लिए अपने विद्यालय की ओर से अपना पहला कदम बढ़ाया है। आने वाले दिनों में तीनों देशों के विद्यार्थियों के लिए एक दूसरे के देश में भ्रमण करने हेतु यह उनका पहला कदम है।

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here