सासनी 12 फरवरी । कोतवाली क्षेत्र के गांव बिलखौरा खुर्द व बिलखोरा कला में सड़क की समस्या को लेकर आठवें दिन भी धरना प्रदर्शन जारी रहा, ग्रामीणों का कहना है कि जब तक सड़क का निर्माण नहीं हो जाता तब तक धरना प्रदर्शन करते रहेंगे। ग्रामीण स्कूल के गेट पर ताला लगाकर प्रदर्शन करने के साथ ही अपने बच्चों को भी स्कूल नहीं भेज रहे हैं। साथ ही प्रशासनिक अधिकारियों ने ग्रामीणों को जल्द से जल्द समस्या के समाधान का भी भरोसा दिया। सासनी क्षेत्र के गांव बिलखौरा कला व बिलखोरा खुर्द में सड़क निर्माण की मांग को लेकर आठवें दिन भी ग्रामीणों ने पूर्व माध्यमिक विद्यालय पर प्रदर्शन कर जमकर नारेबाजी की। आज समझाने पहुँचे एसडीएम व ग्रामीणों के बीच नोकझोंक हुई। ग्रामीणों ने एसडीएम पर अभद्रता करने के आरोप लगाए और ग्रामीणों ने एसडीएम मुर्दाबाद के नारे भी लगाए।

आज बेसिक शिक्षा अधिकारी उपेंद्र गुप्ता, सीडीओ तथा सीओ गांव में पहुंचे और उन्होंने ग्रामीणों से वार्ता करते हुए जल्द से जल्द समाधान करने का भरोसा दिया। बेसिक शिक्षा अधिकारी उपेंद्र गुप्ता ने माध्यमिक विद्यालय का गेट खुलवाकर पढ़ाई का कार्य सुचारू कराया। साथ ही ग्रामीणों को जल्द से जल्द समाधान का भरोसा दिया। परंतु मौके पर पहुंचे अधिकारियों के समझाने पर भी वे नहीं माने और अपनी मांग पर अड़े रहे। बिलखौरा कला व बिलखोरा खुर्द में सड़क निर्माण की मांग को लेकर ग्रामीण आक्रोशित होते जा रहे हैं। धरना समाप्त करने के लिए अधिकारी तमाम प्रयास कर रहे हैं, लेकिन एक भी कोशिश सफल होती नजर नही आ रही। इस दौरान ग्रामीणों को समझाने के लिए बेसिक शिक्षा अधिकारी उपेंद्र गुप्ता, सीडीओ साहित्य प्रकाश मिश्र व सीओ सदर राम प्रवेश राय मय पुलिस फोर्स के गांव पहुंचे।

ग्रामीणों को करीब एक घंटे तक मनाने की कोशिश की। मगर ग्रामीण सड़क निर्माण की मांग को लेकर अड़े रहे। उनका कहना है जब तक रोड नहीं बनेगा तब तक वह धरना प्रदर्शन समाप्त नहीं करेंगे। शिकायत उच्च अधिकारियों से भी की लेकिन कोई समाधान नहीं निकल पा रहा है। प्रदर्शन कर रहे लोगों ने कहा कि यह संपर्क मार्ग करीब पंद्रह साल से नहीं बना है। जनप्रतिनिधियों से लेकर प्रशासनिक अधिकारियों से कई बार समस्या के बारे में लिखित और मौखिक तौर पर बताया भी लेकिन नतीजा कुछ नहीं निकला धरना देते हुए आठ दिन हो गए, लेकिन समस्या का कोई हल नहीं निकल पा रहा है। जनप्रतिनिधि झूठे वादे करके चले जाते हैं, जब तक संपर्क मार्ग नहीं बनेगा, तब तक धरना प्रदर्शन समाप्त नहीं होगा।