हाथरस 09 सितम्बर | जिलाधिकारी रमेश रंजन ने मुख्य विकास अधिकारी के साथ निचली मांट शाखा खंड गंगा नहर मथुरा के अंतर्गत नहरों का स्थलीय निरीक्षण किया तथा कार्य योजना तैयार कर सफाई कराते हुए पानी टेल तक पहुंचने के निर्देश दिए। जिलाधिकारी ने नहरों में टेल तक पानी की उपलब्धता के संबंध में निचली मांट शाखा खंड गंगा नहर मथुरा के अंतर्गत नहरों का स्थलीय निरीक्षण किया। जिलाधिकारी ने रजवाह मुरसान की टेल के 29 कि0मी0 पर पानी का निरीक्षण किया। वर्तमान में टेल पर पानी का संचालन नहीं पाया गया। सहायक अभियंता ने बताया कि रजवाहा में वर्तमान समय में 15 कि0मी0 तक पानी प्रवाहित हो रहा है। जो जनपद अलीगढ़ की सीमा अंतर्गत आता है। नहरों में पानी का संचालन जल उपलब्धता व रोस्टर के अनुसार किया जाता है। इसके पश्चात जिलाधिकारी ने रजवाहा सादाबाद के 19.200 कि0मी0 किलोमीटर पर निरीक्षण किया। रजवाहा की रीच पानी उपलब्ध पाया गया। सहायक अभियंता ने कि बताया कि रजवाहा में 23 कि0मी0 तक पानी की संचालन हो रहा है। जनपद हाथरस में पानी की उपलब्धता 4 कि0मी0 तक की लंबाई में है। जिलाधिकारी ने रजवाहा के 4 कि0मी0 बल्देव-सादाबाद मार्ग का निरीक्षण किया। निरीक्षण के दौरान उक्त स्थल पर पानी की उपलब्धता नहीं पाई गई। इस पर सहायक अभियंता बताया कि रजवाहा की कुल लंबाई 46.300 कि0मी0 है, वर्तमान में टेल की लंबाई 35.500 कि0मी0 है। उन्होंने बताया कि 35.500 कि0मी0 46.300 कि0मी0 तक तक रजवाहा की बैक कमजोर व क्षतिग्रस्त है। जिस कारण रीच में पानी प्रवाहित करने पर पटरियों के टूटने से किसानों की फसल में नुकसान हो जाता है। इस समस्या के निदान हेतु अधिशासी अभियंता निचली मांट शाखा मथुरा द्वारा सादाबाद रजवाहा के 40.235 कि0मी0 से 21.200 कि0मी0 तक सुरक्षा दीवार का निर्माण व 35.500 कि0मी0 से 46.300 कि0मी0 के मध्य आंतरिक भाग के पुर्नस्थापना के कार्य की परियोजना लागत रूपये 559.55 लाख की मुख्य अभियंता समिति की बैठक दिनांक 16.11.2019 को अनुमोदन प्राप्त हो गया है। निरीक्षण के दौरान जिलाधिकारी ने उपस्थित ग्रामीणों से पानी सप्लाई के बारे में जानकारी ली ग्रामीणों ने बताया कि पिछले वर्ष पानी आया था उससे पूर्व कई वर्षों से पानी नहीं आया था। जिलाधिकारी ने सहायक अभियन्ता सिंचाई को धनराशि प्राप्त होते ही रजवाहा की टेल तक पानी उपलब्ध कराने के निर्देश दिए। निरीक्षण के दौरान उप जिलाधिकारी सादाबाद, जिला विकास अधिकारी, जिला अर्थ एवं संख्याधिकारी, सहायक अभियंता निर्माण खंड गंगा नहर मथुरा, अधिशासी अभियंता सिंचाई खंड हाथरस तथा जूनियर इंजीनियर आदि उपस्थित रहे ।