सादाबाद 05 सितम्बर | आगरा रोड स्थित सेंट विवेकानन्द पब्लिक स्कूल में सोमवार को शिक्षक दिवस उत्साह, उल्लास के साथ मनाया गया। प्रधानाचार्य डॉ. जगदीश शर्मा ने माँ सरस्वती व डॉ. सर्वपल्ली राधाकृष्णन के छवि चित्र के समक्ष दीप प्रज्ज्वलित कर माल्यार्पण किया। कार्यक्रम में डॉ. जगदीश शर्मा ने बताया कि शिक्षक दिवस भारत के पूर्व राष्ट्रपति डॉ. सर्वपल्ली राधाकृष्णन के जन्म दिन के रूप में मनाया जाता है क्योंकि वे एक महान शिक्षक भी थे। इसलिए हम सब इसे पूरे भारतवर्ष में शिक्षक दिवस के रूप में मनाते हैं। शिक्षक दिवस पर अपने वक्तव्य में शिक्षक दिवस का महत्व बताते हुए कहा कि गुरू, अध्यापक या आचार्य जिस भी नाम से पुकारिए हर युग में शिक्षक महत्वपूर्ण रहे हैं। जिस प्रकार दीपक जलकर सारे जग को प्रकाशित करता है उसी प्रकार गुरू भी अपने शिष्यों को अज्ञानता के अंधकार से निकालकर ज्ञान रूपी प्रकाश के संसार में ले जाता है। आचार्य चाणक्य ने कहा भी है कि शिक्षक कभी साधारण नहीं होता। सृजन और निर्माण उसकी गोद में पलते हैं। सभी जानते हैं कि वर्तमान परिपेक्ष्य में शिक्षक और विद्यार्थियों के सम्बन्ध बदल रहे हैं और इस बदलते परिवेश में सबसे अधिक जिम्मेदारी शिक्षकों की बनती है । विद्यालय के समस्त शिक्षक और शिक्षिकाओं ने उनके आदर्शों पर चलने का संकल्प लिया। इस अवसर पर कक्षा 11 की छात्रा अनमोल बैंदल ने अपने विचार प्रस्तुत करते हुए कहा कि शिक्षक समाज की रीढ़ है, जो बच्चों को उन्नति के मार्ग पर प्रशस्त करता है। शिक्षक सही और गलत का फर्क बताकर सुन्दर चरित्र का निर्माण करता है। साथ ही छात्रा खुशुबू, गौरी जिन्दल, जाह्नवी, ज्योति, आयुशी ने शिक्षक दिवस के महत्व पर प्रकाश डाला।हर्षिता एवं हंशिका ने गुरूर ब्रह्मा गुरूर विष्णु गाने पर सुंदर नृत्य की प्रस्तुति दी। संचालन शिवनारायन शर्मा किया। इस कार्यक्रम को सफल बनाने में समस्त शिक्षक व शिक्षकाओं का विशेष योगदान रहा।