हाथरस 05 सितम्बर | नियमित टीकाकरण कार्यक्रम को गति प्रदान करने के लिए जिले में सात सितम्बर से विशेष अभियान चलाया जाएगा। इसका उद्देश्य बच्चों में होने वाले संक्रमण एवं गंभीर जानलेवा बीमारियों से बचाव तथा बाल मृत्यु दर को नियंत्रित करने के लिये उन्हें प्रतिरक्षित करना है। यह विशेष अभियान 15 अक्टूबर तक चलाया जाएगा। इस अभियान को लेकर संबंधित स्वास्थ्य कर्मियों को प्रशिक्षण प्रदान किया जा चुका है।

जिला प्रतिरक्षण अधिकारी (डीआईओ) डॉ. विजेंद्र सिंह ने बताया कि मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ. मंजीत सिंह के निर्देशन में सात सितम्बर से 15 अक्टूबर तक विशेष अभियान चलाया जाएगा। उन्होंने बताया कि कई प्रकार के संक्रमण और बीमारियों से बचाव के लिए बच्चों को प्रतिरक्षित किया जाना जरूरी है। उन्होंने बताया कि यह अभियान हाथरस समेत प्रदेश के 28 जिलों में चलाया जाएगा। उन्होंने बताया कि जनपद स्तर पर सभी प्रभारी चिकित्सा अधिकारी (एमओआईसी), बीपीएम के साथ बैठक हो चुकी है। बैठक में छह सितम्बर तक माइक्रो प्लान जमा करने के निर्देश दिए गए हैं। डीआईओ ने बताया कि टीकाकरण प्रत्येक दिन नहीं होना है, यह अभियान बुधवार और शनिवार को चलेगा। इस पूरे अभियान की जनपद स्तर पर समीक्षा की जाएगी।

जिला प्रतिरक्षण अधिकारी का कहना है कि विभाग का प्रयास है कि इस अभियान के दौरान छूटे सभी बच्चों का टीकाकरण किया जाए। नियमित टीकाकरण विशेष अभियान के तहत जिले में 8898 बच्चों को पेंटा 1 डोज, 6469 बच्चों को मीजल्स रूबेला (एमआर) 1 डोज, 10714 बच्चों को एमआर 2 और 22160 बच्चों को डीपीटी बूस्टर 2 डोज लगाया जाएगा।