शिक्षक: एक पदवी।

कितने सारे सालों का अनुभव ,
फिर भी बहुत कुछ सीखना बाकी है।
शिक्षक है एक पदवी ऐसी , जो हर दिन कुछ नया सिखाती है।

क्या सिखाना है बच्चों को , क्या क्रिएटिव प्रोजेक्ट बनाऊं।
बस यही सोचते -सोचते यूंही शाम गुजर जाती है।
शिक्षक है एक पदवी ऐसी , जो हर दिन कुछ नया सिखाती है।

भविष्य बने नन्हें मुन्नो का , सपना देखा माता- पिता की आंखों ने ।
कदम कैसे पीछे कर लूं मैं , इनका भविष्य जब मेरे हाथों में।
शिक्षक है एक पदवी ऐसी , जो हर दिन कुछ नया सिखाती है।

आधार है विद्यालय अगर तो , जीवन की शिला तुम हो मेरी।
माना नाम नहीं रहते याद मुझे , पर तुमसे ही है पहचान मेरी।
सुबह की दौड़ – धूप माना थोड़ा थकाती है।
शिक्षक है एक पदवी ऐसी , जो हर दिन कुछ नया सिखाती है।

सीखना फिर सीखना , पढ़ना फिर पढ़ाना।
ये ही तो शिक्षक के जीवन का हिस्सा है ।
Exams , Unit test , Class bell ये सब ही तो एक शिक्षक की कहानी का हिस्सा है।
यही बाते ही है जो एक आदर्श शिक्षक बनाती हैं।
शिक्षक है एक पदवी ऐसी , जो हर दिन कुछ नया सिखाती है।

हैप्पी टीचर्स डे।
लेखिका – प्रियंका खन्ना अरोरा
हाथरस