हाथरस 28 जुलाई | कल देर रात्रि पुलिस अधीक्षक देवेश कुमार पाण्डेय द्वारा पुलिस कार्यालय स्थित सभागार कक्ष में जनपद के समस्त पुलिस अधिकारियों से परिचय प्राप्त किया गया तथा जनपद में शान्ति व कानून व्यवस्था बनाये रखने व अपराध नियंत्रण के दृष्टिगत अपराध गोष्ठी का आयोजन कर उपस्थित पुलिस अधीकारी व कर्मचारीगणों को आवश्यक दिशा निर्देश दिये गये । गोष्ठी में अपर पुलिस अधीक्षक प्रकाश कुमार, क्षेत्राधिकारी नगर मनोज कुमार शर्मा, क्षेत्राधिकारी सिकन्द्राराऊ सुरेन्द्र सिंह, क्षेत्राधिकारी सादाबाद ब्रहम सिंह, मुख्य अग्मिशमन अधिकारी अरविन्द कुमार सिंह, क्षेत्राधिकारी(UT) डा आनंद कुमार, प्रतिसार निरीक्षक, प्रभारी निरीक्षक एलआईयू एवं जनपद के समस्त थाना प्रभारी व शाखा प्रभारी आदि मौजूद रहे । इस दौरान सर्वप्रथम पुलिस अधीक्षक द्वारा मीटिंग में उपस्थित समस्त अधिकारी व कर्मचारीगणों से परिचय प्राप्त किया गया तथा जनपद में कानून व्यवस्था सुदृढीकरण व अपराध नियंत्रण की रोकथाम के सम्बन्ध में आवश्यक दिशा निर्देश दिये गये । पुलिस अधीक्षक द्वारा सभी को निर्देशित किया गया कि थाने पर प्रतिदिन जनसुनवाई करते हुए आने वाले आगन्तुकों, फरियादियों, जनप्रतिनिधियों व पत्रकार बंधुओं के साथ विनम्र व मानवीय व्यवहार करने एवं उनके बैठने की व्यवस्था, स्वच्छ पेय जल आदि की व्यवस्था सुनिश्चित की जाए, जिससे कि आमजनता बिना किसी भय के अपनी शिकायतों के निस्तारण हेतु थानो पर आ सके तथा थाने पर आने वाले समस्त आगन्तुकों व फरियादियों की समस्याओं को शालीनतापूर्वक सुनकर तत्काल निष्पक्ष आवश्यक कानूनी कार्यवाही करते हुए समयबद्ध व गुणवत्तापूर्वक निस्तारण कराया जाये । समस्त प्रभारी निरीक्षकों को निर्देशित किया गया कि थानों का रिकार्ड समय से अध्यावधिक किया जाये तथा दिन-रात्रि अधिकारी समय-समय पर हवालात का निरीक्षण करें एवं थानों पर अनावश्यक रूप से किसी को ना बैठाया जाए । किसी भी प्रकरण में पूछताछ के लिए आये व्यक्ति के साथ नियमानुसार कार्यवाही करते हुए बाद पूछताछ सुपुर्दगी में देकर थाने से रूखसत किया जाये । समस्त थाना प्रभारियों को निर्देशित किया गया कि आपके अधीनस्थ नियुक्त समस्त आरक्षियों की आगामी 4 दिवस के अन्दर बीट बुक तैयार कराने के सम्बन्ध में आवश्यक दिशा निर्देश दिये गये ।

तत्पश्चात अपराध नियंत्रण के संबंध में आवश्यक दिशा निर्देश देते हुए बताया गया कि समस्त क्षेत्राधिकारी व थाना प्रभारी अपने-अपने थाना क्षेत्र के सक्रिय अपराधियों, थाने व जनपद के टॉप-10 अपराधियों,भू-खनन माफिया, शराब माफिया आदि की सूची बनाकर लगातार सतर्क दृष्टि रखते हुए उनके क्रियाकलापों की निगरानी की जाये । तथा अवैध जुआ, अवैध सट्टा, अवैध शराब को पूर्ण रूप से बन्द कराने के सम्बन्ध में आवश्यक दिशा निर्देश दिये गये । गंभीर प्रकरणों में शत प्रतिशत एफआईआर पंजीकरण कराए जाने, आईजीआरएस पोर्टल की शिकायतों व अन्य शिकायती प्रार्थना पत्रों का समयबद्ध एवं गुणवत्तापूर्ण निस्तारण किये जाने हेतु निर्देशित किया गया । इसी क्रम में लंबित विवेचनाऐं विशेषकर एससी एसटी एक्ट, महिला सम्बन्धी अपराध, पोक्सो एक्ट, गैंगेस्टर एक्ट आदि के सम्बन्ध में जानकारी करते हुए अधिक से अधिक विवेचनाओं के निस्तारण, अज्ञात में दर्ज अभियोगों का वर्क आउट करने एवं वांछित/पुरूष्कार घोषित अभियुक्तों की शत प्रतिशत गिरफ्तारी करने हेतु समस्त क्षेत्राधिकारी व थाना प्रभारियों को निर्देशित किया गया । अपराध नियंत्रण हेतु थानों पर कार्य योजना बनाकर कार्य करें । साथ ही गैंगस्टर एक्ट के अभियोगों में 14(1) के अन्तर्गत माफियाओं की सम्पत्ति जब्तीकरण की कार्यवाही हेतु निर्देशित किया गया । तथा बताया गया कि ऑपरेशन पहचान के अन्तर्गत अपराधियों की सही सूचना संकलित कर शतप्रतिशत अपराधियों का सत्यापन करने एवं उनकी समय से पहचान एप पर फीडिंग करने हेतु निर्देशित किया ।

इसी क्रम में महिला बीट पुलिसिंग (मिशन शक्ति) के बारे में समस्त अधिकारियों को बताया कि सभी महिला बीट अधिकारी अपनी-अपनी बीट का भ्रमण करें एवं अपने बीट क्षेत्र में पडने वाले गांव व मोहल्लों में जाकर महिलाओं व बालिकाओं से सीधा संवाद स्थापित कर उनकी समस्याऐं सुनें एवं ग्राम प्रधान, वीडीसी ,सेक्रेटरी, आंगनबाडी, आशाबहू, सहायक अध्यापिकाओं व ग्राम चौकीदारो आदि की मदद से ज्यादा से ज्यादा चौपाल व मीटिंग का आयोजन कर क्षेत्र की महिलाओं व बालिकाओं को शासन की विभिन्न महिला कल्याण सम्बन्धी योजनाओं एवं सुरक्षा सम्बन्धी संबंधी चलायी जा रही विभिन्न योजनाओं (महिला हेल्प लाइन 1090, एंटी रोमियो स्क्वॉड, डायल-112 आदि ) के बारे में जागरूक करने हेतु आवश्यक दिशा निर्देश दिये गये तथा एंटी रोमियों टीम के आवश्यकतानुसार ड्यूटी प्वाइंट निर्धारित करने हेतु निर्देशित किया गया । तत्पश्चात समस्त थानों द्वारा माल निस्तारण के सम्बन्ध में आवश्यक दिशा निर्देश देतु हुए बताया कि थानों पर एकत्रित लावारिस वाहनों की नीलामी कराने, जब्त शुदा, मुकदमाती वाहनों आदि के सम्बन्ध में न्यायालय से आदेश प्राप्त कर यथाशीघ्र निस्तारण कराने तथा MV एक्ट में सीज शुदा वाहनों के मालिकों से सम्पर्क कर जल्द से जल्द उनका निस्तारण कराने हेतु निर्देशित किया गया । तथा अवगत कराया कि मालखाने में रखे माल पर सुस्पष्ट अपराध संख्या/माल का विवरण लिखा जाये ।

पुलिस अधीक्षक द्वारा जनपद में चोरी, लूट व अन्य घटनाओं के प्रभावी रोकथाम हेतु दिन व रात्रि में पर्याप्त पुलिस बल के साथ अपने-अपने थाना क्षेत्रों में नियमित रूप से गस्त करने तथा बैंक व लेनदेन वाले स्थानो पर विशेष सतर्कता बरतने, एवं चैकिंग के दौरान एवं अपने-अपने क्षेत्रों में चेकिंग प्वाइंट निर्धारित कर संदिग्ध व्यक्तियों व वाहनों की चैकिंग करने तथा बैंक व लेनदेन वाले स्थानों के सिक्योरिट प्लान व सीसीटीवी कैमरों की दिशा व दशा को चैक करने हेतु निर्देशित किया गया तथा बैंक ड्यूटी में जाने वाले कर्मचारियों की ड्यूटी के सम्बन्ध में ब्रीफ करने एवं सभी पुलिसकर्मियों को ड्यूटी के दौरान दृश्यता, गतिशीलता, सजगता एवं सतर्कता रखने हेतु निर्देशित किया गया । इसी क्रम में पुलिस अधीक्षक द्वारा श्रावण मास-कावड यात्रा, मोहर्रम, रक्षाबंधन आदि त्यौहारों के दृष्टिगत जनपद में सुरक्षा एवं शांति व्यवस्था बनाए रखने के लिए प्रमुख चौराहों, संवेदनशील स्थानों, कावडियों के आने-जाने वाले रास्तों पर पर्याप्त पुलिस बल लगाने एवं धार्मिक स्थलों की सुरक्षा व्यवस्था के सम्बन्ध में अधिकारियों को आवश्यक दिशा-निर्देश दिए ।

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here