हाथरस 03 मई | चुनाव ड्यूटी से कोरोना संक्रमित हुए दो शिक्षकों की मौत हो गई। जिनमें एक शिक्षक बेसिक ‌शिक्षा विभाग और दूसरे शिक्षक माध्यमिक शिक्षा विभाग के हैं। दो शिक्षकों की मौत से शिक्षा विभाग में मातम छा गया, क्योंकि अब तक करीब एक दर्जन शिक्षकों की मौत हो चुकी है। अब ‌‌शिक्षक‌ शिक्षिकाओं में कोरोना महामारी को लेकर भय व्याप्त है।
जिले के बेसिक शिक्षा विभाग व माध्यमिक शिक्षा के शिक्षक-शिक्षिकाओं की ड्यूटी पंचायत चुनाव में लगी थी। जिनमें से काफी शिक्षक चुनाव कराने के बाद घर लौटते ही बीमार हो गए थे। कुछ को कोरोना भी हो गया। जिसके चलते करीब एक दर्जन शिक्षक शिक्षिकाओं की मौत भी हो गई। रविवार की देररात को दो शिक्षकों की मौत हो गई। जिनमें शहर के प्रमुख शिक्षाविद् स्वतंत्र कुमार गुप्त के पुत्र आलोक गुप्ता (नेताजी) और सासनी विकास खंड के गांव ऊतरा के संविलियन विद्यालय के प्रधानाध्यापक धर्म सिंह का नाम शामिल है। बताया जा रहा है कि इन दोनों शिक्षकों की तबियत चुनाव ड्यूटी करके लौटने के बाद से ही खराब चल रह थी। आलोक गुप्ता को परिजनों ने प्रेमरघु अस्पताल में भर्ती कराया था। यहां पर ऑक्सीजन की व्यवस्था ठीक न होने के कारण परिवार के लोग उन्हें अलीगढ़ के निजी अस्पताल ले गए, जहां पर रविवार-सोमवार की रात को इलाज के दौरान उनकी मौत हो गई। उनकी मौत की खबर सुनकर परिवार में मातम छा गया। ऊतरा के प्रधानाध्यापक धर्म सिंह की भी अलीगढ़ में इलाज के दौरान मौत हुई। दोनों शिक्षकों की मौत से शिक्षा विभाग में मातम छाया हुआ है। अब शिक्षा विभाग के लोग काफी घबराए हुए हैं।

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here