नई दिल्ली 31 मार्च | देश कोरोना वायरस संक्रमण के खिलाफ लड़ाई मजबूती से कर रहा है। इस बीच एक अच्छी खबर सामने आई है। भारत को जल्द ही तीसरी वैक्सीन मिलने की संभावना है। रूसी टीके स्पूतनिक वी को इमरजेंसी इस्तेमाल की सिफारिश को लेकर आज सब्जेक्ट एक्सपर्ट कमेटी की बैठक होने वाली है। अगर एसईसी आपात उपयोग की सिफारिश में हामी भर देता है, तो इसे दवा महानियंत्रक वीजी सोमानी के पास भेजा जाएगा। वह इसके इमरजेंसी इस्तेमाल की परमिशन देंगे।

भारत में इस टीके का निर्माण डॉ. रेड्डीज लेबोरेटरीज कर रही है। इसके तीसरे फेज के ट्रायल के डेटा पहला जमा किया जा चुका है। रूस वैक्सीन स्पूतनिक वी थर्ड ट्रायल में 91.6 फीसद असरदार साबित हुई है। गौरतलब है कि देश में कोरोना वैक्सीनेशन जारी है। अब तक 6.30 करोड़ लोगों को टीके लग चुके हैं। टीकाकरण के लिए दो टीकों का उपयोग हो रहा है। जिसमें पहला ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी एस्ट्राजेनेका द्वारा बनाया वैक्सीन को देश में पुणे स्थित सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया ने कोविशील्ड नाम से तैयार किया है। जबकि दूसरी वैक्सीन पूरी तरह स्वदेशी बायोटेक की कोवैक्सी है।

बता दें देश 16 जनवरी 2021 से टीकाकरण अभियान शुरू हुआ था। सबसे पहले स्वास्थ्यकर्मियों और फ्रंटलाइन वर्कर्स को वैक्सीन लगाई गई। इसके बाद 60 वर्ष से ऊपर और गंभीर बीमारी वाले 45 साल के ऊपर के लोगों को टीका लगाना शुरू हुआ। अब कल यानी 1 अप्रैल से 45 साल से ऊपर के सभी लोगों को टीका लगना शुरू हो जाएगा। इधर केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन ने मंगलवार को बताया कि देश में सात और वैक्सीन का क्लीनिकल ट्रायल चल रहा है। उन्होंने दिल्ली हर्ट और लंग इंस्टीट्यूट में कोरोना टीका की दूसरी डोज लगाई। वहीं देश में एक दिन में कोरोना संक्रमण के 53,480 नए केस सामने आए हैं। जिसके बाद संक्रमण की संख्या बढ़कर 1,21,49,335 पहुंच गई है। जबकि 354 लोगों की मौत हो गई है, जो इस साल एक दिन में सर्वाधिक मृतक आंकड़ा है।

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here