जब जब प्रकृति सों
छेड़-छाड़ होवहीं।
तब तब अपना वो
मूल भाव खोवहीं।।
गेह गांव प्रदेश देश
छांड़ि कहं कढ़ि जहीं।
परदूषन पर-दूखन
भार प्रसार बढ़िअहीं।।
वन वृक्ष काटि कैं
कष्ट भ्रष्ट प्रदत्तहीं।
सोच पोच लोच ना
अग्रमे प्रमत्तहीं ।।
नद्य नीर क्षीर सम
विषम भाव राखहीं।
नेति नेमि नष्ट भुवि
नि:रस अस भाखहीं।।
अपथ सत पगपथी
असत मत फलित ज्वै।
कर्मशील शीतलै
अकर्मशील ज्वलित ह्वै।।
जहं चहै उहं नहींं
मोदिनी धारना ।
श्रमपुंजनूं करहु
मनामंजु वारना।।

                                                                           अकबर सिंह अकेला
                                                                           मानिकपुर, जलेसर रोड (हाथरस)