मुंबई/हाथरस 15 नवंबर | डॉ. राजशरण शाही (उत्तर प्रदेश) और श्री याज्ञवल्क्य शुक्ल (बिहार) देश के अग्रणी छात्र संगठन अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के क्रमशः राष्ट्रीय अध्यक्ष एवं राष्ट्रीय महामंत्री के रूप में सत्र 2022-23 हेतु नव निर्वाचित हुए हैं। यह घोषणा आज अभाविप केन्द्रीय कार्यालय (मुंबई) से की गई। अभाविप के केन्द्रीय कार्यालय से आज चुनाव अधिकारी डॉ. एस. सुब्बैया द्वारा जारी वक्तव्य के अनुसार उपरोक्त दोनों पदों का कार्यकाल एक वर्ष रहेगा एवं दोनों पदाधिकारी जयपुर (राजस्थान) में दिनांक 25, 26 व 27 नवम्बर, 2022 को होने वाले 68वें राष्ट्रीय अधिवेशन में अपना पदग्रहण करेंगे।

कौन हैं डॉ. राजशरण शाही ? 

डॉ. राजशरण शाही मूलतः उत्तर प्रदेश के गोरखपुर जिले से हैं। राजशरण शाही की शिक्षा शिक्षाशास्त्र में PhD तक हुई है। वर्तमान में यह बाबासाहब भीमराव अंबेडकर विश्वविद्यालय, लखनऊ में शिक्षाशास्त्र विभाग में सह-आचार्य के पद पर कार्यरत हैं। इन्होंने अभी तक पाँच पुस्तकों का लेखन व संपादन किया है। अभी तक इनके 103 से अधिक शोधपत्र एवं लेख राष्ट्रीय व अन्तर्राष्ट्रीय शोध पत्रिकाओं एवं संगोष्ठियों में रखे जा चुके हैं। साथ ही शिक्षा से जुड़े विषयों पर दैनिक पत्रों में आपके लेख प्रकाशित हुए हैं। आप प्रतिष्ठित भारतीय उच्च अध्ययन संस्थान, शिमला में असोसिएट रहे हैं। 2017 में श्रेष्ठतम शिक्षक का योगीराज बाबा गंभीर नाथ स्वर्ण पदक उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री द्वारा प्रदान किया गया। उत्तर प्रदेश की विभिन्न शैक्षिक एवं राष्ट्रीय शिक्षा नीति के क्रियान्वयन संबन्धी महत्वपूर्ण समितियों के आप सदस्य भी हैं। शिक्षा व सामाजिक विषयों के गहन चिंतक व उत्तर प्रदेश में संगठन कार्य को आगे बढ़ाने में आपकी महती भूमिका रही है। आप 1989 में विद्यार्थी जीवन से अभाविप के संपर्क मे हैं। शिक्षक कार्यकर्ता के रूप में यह अब तक गोरखपुर महानगर अध्यक्ष से लेकर गोरक्ष प्रांत अध्यक्ष आदि दायित्वों का निर्वहन कर चुके है। वर्तमान में यह अभाविप के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष हैं। आगामी सत्र 2022-23 हेतु राष्ट्रीय अध्यक्ष के दायित्व पर निर्वाचित हुए हैं। इनका निवास लखनऊ है।

कौन हैं याज्ञवल्क्य शुक्ल ? 

याज्ञवल्क्य शुक्ल मूलतः झारखंड के गढ़वा जिले से हैं। इनकी शिक्षा रांची विश्वविद्यालय से भूगोल विषय में PhD तक हुई है। इनका शोध झारखंड के पलामू प्रमंडल में कोरबा जनजाति का सांस्कृतिक भूगोलीय अध्ययन विषय पर हुआ है। इन्होंने नीलाम्बर-पिताम्बर विश्वविद्यालय से भूगोल विषय में परास्नातक में स्वर्ण पदक प्राप्त किया है। यह श्री जगजीत सिंह नामधारी महाविद्यालय, गढ़वा के निर्वाचित छात्रसंघ अध्यक्ष तथा रांची विश्वविद्यालय के निर्वाचित छात्रसंघ उपाध्यक्ष रहे हैं। इन्होंने वर्ष 2018 में भारत सरकार द्वारा आयोजित भारतीय युवा प्रतिनिधिमंडल की श्रीलंका यात्रा का प्रतिनिधित्व किया है। आप विद्यालयी जीवन से ही परिषद के संपर्क में हैं तथा वर्ष 2009 से पूर्णकालिक कार्यकर्ता हैं। झारखंड के युवाओं को भ्रमित करने वाले षड्यंत्रों को परास्त कर इन्होने ‘जुटान’ जैसे विभिन्न सफल प्रयोगों से जनजातीय विद्यार्थियों को अवसर प्रदान करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है। यह पूर्व में अभाविप के रांची महानगर संगठन मंत्री, झारखंड प्रांत संगठन मंत्री तथा केंद्रीय कार्यसमिति सदस्य जैसे महत्वपूर्ण दायित्वों का निर्वहन किया है। वर्तमान में यह बिहार क्षेत्र के क्षेत्रीय सह संगठन मंत्री हैं। आगामी सत्र 2022- 23 हेतु यह राष्ट्रीय महामंत्री के दायित्व पर निर्वाचित हुए हैं। इनका केंद्र पटना है।

इस घोषणा के उपरांत हाथरस के कार्यकर्ताओं सहित देशभर के कार्यकर्ताओं में खुशी की लहर दौड़ गई । हाथरस में कार्यकर्ताओं ने मिष्ठान वितरित कर खुशी जाहिर की। प्रांत विकासार्थ विद्यार्थी प्रमुख वरुण अग्रवाल, प्रांत सह सम्पर्क प्रमुख जय शर्मा, प्रांत सोशल मीडिया संयोजक विकास शर्मा, विभाग संयोजक गौरव रावत, नगर मंत्री अर्पित वर्मा, नगर विस्तारक सौरभ राठौर, सुहाना, विशाल, महक आदि कार्यकर्ता मौजूद थे।